मिर्ज़ापुर में घूमने की जगह और जाने का सही समय

chunar fort

मिर्जापुर भारत के उत्तर प्रदेश राज्य का एक शहर है। यह मिर्जापुर जिले का मुख्यालय है। मिर्जापुर पर्यटन की दृष्टि से काफी महत्वपूर्ण जिला माना जाता है। यहां की प्राकृतिक सुंदरता और धार्मिक वातावरण लोगों का ध्यान अपनी ओर खींच लेता है। मिर्जापुर में विंध्याचल धाम भारत के प्रमुख हिंदू तीर्थ स्थलों में से एक है। इसके अलावा यह जिले के सीता कुंड, कल भैरव मंदिर, विंढम जलप्रपात, टांडा जलप्रपात, विंढम जलप्रपात, अष्टभुजी, चुनार किला, कालीखोह आदि के लिए प्रसिद्ध है। तो आईये जानते है मिर्ज़ापुर की प्रमुख घूमने की जगहों के बारे में –

मिर्ज़ापुर में घूमने की जगहे

1. विंध्यवासिनी देवी मंदिर

vidhyavasini-devi-mandir

यह भारत के सबसे प्रतिष्ठित शक्तिपीठों में से एक है। विंध्यवासिनी देवी को काजल देवी के नाम से भी जाना जाता है। मंदिर विशेष रूप से चैत्र और आश्विन के हिंदू महीनों में नवरात्रि के दौरान भारी संख्या में भीड़ को आकर्षित करता है। इस दौरान शादी के सीजन में काफी संख्या में श्रद्धालु मंदिर में दर्शन के लिए आते हैं।

मां विंध्यवासिनी विंध्याचल की विशेषता है, और मंदिर के उपासकों के लिए महत्वपूर्ण आध्यात्मिक महत्व और आस्था है। लोग पवित्र गंगा नदी में स्नान करते है और फिर मंदिर में दर्शन करते है, यह विश्वास करते हुए कि ऐसा करने से उनके पाप धुल जाएंगे और माता विंध्यवासिनी उनकी मनोकामना पूरी करेंगी। यह मंदिर मिर्ज़ापुर में घूमने के लिए सबसे प्रचलित मंदिरो में से एक है।

समय: 24 घंटे खुला
प्रवेश शुल्क: कोई शुल्क नहीं

2. अष्टभुजी देवी का मंदिर

ashtbhuji mandir

मां विंध्यवाशिनी देवी के मंदिर से 3 किमी की दूरी पर अष्टभुजी देवी का मंदिर है। विंध्य पर्वत पर 300 फीट की ऊंचाई पर स्थित देवी के मंदिर तक पहुंचने के लिए आपको पत्थर की 160 सीढ़ियां चढ़नी होंगी। नवरात्रि के आठवें दिन श्रद्धालु मां के आठवें स्वरूप महागौरी की पूजा करने के लिए विंध्याचल धाम आते हैं और इस दौरान मंदिर में काफी भीड़ होती है।

देवी अष्टभुजी को ज्ञान की देवी कहा जाता है और  देवी मां के दर्शन मात्र से सारे पाप कट जाते हैं और सभी मनोकामनाएं पूरी हो जाती हैं मिर्जापुर में घूमने की यह जगह अपने शांत और सुंदर दृश्यों के कारण श्रद्धालुओं के साथ-साथ पर्यटकों को भी अपनी ओर आकर्षित करती है।

समय: सुबह 4 बजे से रात 10 तक खुला
प्रवेश शुल्क: कोई शुल्क नहीं

3. कालीकोह मंदिर

kalikhoh mandir

यह प्रसिद्ध मंदिर माता काली को समर्पित है। यह मंदिर छोटी धाराओं और घने, हरे-भरे जंगलों के बीच स्थित है जो शांत आपको एक शांत वातावरण का अनुभव प्रदान करता है।

आध्यात्मिक भक्ति का स्थान होने के साथ-साथ यह शांत सौंदर्य का स्थान भी है। यह क्षेत्र अपनी घास वाली घाटियों, बहते झरनों और नदियों के कारण एक प्रकृति प्रेमी के लिए अच्छी जगह है। मिर्ज़ापुर में घूमने के लिए यह जगह सबसे पवित्र है |

समय: सुबह 4 बजे से रात 10 तक खुला
प्रवेश शुल्क: कोई शुल्क नहीं

4. चुनार का किला

chunar fort

यह स्थान ऐतिहासिक महत्व पर प्रकाश डालता है। चुनार का किला सभी इतिहास प्रेमियों को देखने के लिए अवश्य जाना चाहिए। अच्छी तरह से बनाए रखने के अलावा, इसमें साफ-सुथरा परिसर भी है। किले से गंगा नदी का मनोरम दृश्य दिखाई देता है और कुछ हिस्सों में बहती हुई नदी के बहने की आवाज सुनी जा सकती है। यह भारत के सबसे पुराने किलों में से एक है और स्थानीय लोगों द्वारा सुनाई गई किले से जुड़ी कहानियां इसमें और और चार चाँद जोड़ती हैं। यह प्राचीन स्थापत्य कला का बेजोड़ उदाहरण है। इतिहास प्रेमियों के लिए यह जगह प्रयागराज में घूमने की सबसे अच्छी जगह है |

समय: सुबह 8 बजे से शाम 5 तक खुला
प्रवेश शुल्क: कोई शुल्क नहीं

5. विन्धम जलप्रपात

wyndham fall

विन्धम जलप्रपात मिर्जापुर के निकट स्थित सबसे लोकप्रिय पिकनिक स्थलों में से एक है। पथरीली सीढि़यों से बहता झरना। झरने का नाम ब्रिटिश कलेक्टर विंधम के नाम पर रखा गया है। ऊपर से देखने पर ऐसा लगता है जैसे पूरी घाटी हरे रंग में रंगी हुई है। आसमान का नीलापन फूस में चार चांद लगाने लगता है। 

इसके अलावा, एक छोटा चिड़ियाघर और चिल्ड्रन पार्क भी है जो पिकनिक स्पॉट की सुंदरता को बढ़ाता है। पिकनिक स्पॉट पर अक्सर स्थानीय लोगों का आना-जाना लगा रहता है और इस प्रकार सप्ताहांत में यहाँ काफी भीड़ मिल सकती है। अगर आप मिर्ज़ापुर घूमने आ रहे तो यहाँ जरूर जाये |

समय: सुबह 6 बजे से रात 8 तक खुला
प्रवेश शुल्क: प्रवेश पर कोई शुल्क नहीं, वाहन पार्किंग पर शुल्क 20 रूपए बाइक और 40 रूपए कार के लिए

6. टांडा जलप्रपात

tanda fall

मिर्जापुर में टांडा जलप्रपात इस क्षेत्र के सबसे सुंदर पिकनिक स्थलों में से एक है। प्राकृतिक जल धारा और जलाशय अपने शांतिपूर्ण वातावरण और प्रचुर सुंदरता के कारण प्रमुख पर्यटक आकर्षण हैं।

जलप्रपात सड़क मार्ग से आसानी से पहुँचा जा सकता है और मिर्जापुर के मुख्य शहर से लगभग 14 किमी दक्षिण में स्थित है। बरसात के मौसम में, प्राकृतिक वनस्पति और जीव अपने चरम पर होते हैं। नेचर लवर के लिए यह जगह मिर्ज़ापुर में घूमने की जगहों की सूचि में सबसे ऊपर आता है। 

समय: 24 घंटे खुला
प्रवेश शुल्क:
कोई शुल्क नहीं

7. काल भैरव मंदिर

kaalbhairav mandir

काल भैरव मंदिर विंध्याचल शहर के दक्षिण-पश्चिम में स्थित एक पुराना मंदिर है। यह श्री काल भैरव को समर्पित है, जिन्हें क्षेत्रपाल के नाम से भी जाना जाता है, जिन्हें मंदिर का संरक्षक माना जाता है। धार्मिक उत्सवों के दौरान यह मंदिर भक्तों की भारी भीड़ को आकर्षित करता हैं।

मंदिर के बगल में स्थित भैरव कुंड या तालाब को पवित्र माना जाता है। माना जाता है कि कुंड में औषधीय गुण हैं |

समय: सुबह 5 बजे से रात 8 तक खुला
प्रवेश शुल्क: कोई शुल्क नहीं

8. सीता कुंड

sita kund

यह कुंड मिर्जापुर का प्रमुख धार्मिक स्थल है। कहा जाता है कि माता सीता ने यहां अपने पूर्वजों का तर्पण और श्राद्ध किया था। मिर्जापुर की छोटी सी पहाड़ी पर स्थित सीता कुंड में हजारों महिलाएं मातृ नवमी के दिन पहुंचकर अपने पूर्वजों का तर्पण, श्राद्ध और दान करती हैं। भगवान शिव को सीता जी ने कुंड के बगल में स्थापित किया था परिणामस्वरूप, यह स्थान सीताेश्वर नाम से भी जाना जाता है।

समय: 24 घंटे खुला
प्रवेश शुल्क: कोई शुल्क नहीं

9. पक्का घाट

pakka ghat

पक्का घाट अद्भुत नक्काशी के साथ एक आश्चर्यजनक बलुआ पत्थर से बनाया गया घाट है जो गंगा नदी के तट पर स्थित है । घाट सुंदर है, और पास का मंदिर इस जगह को एक रहस्यमयी अनुभव प्रदान करते है। यह घाट मिर्ज़ापुर में घूमने की सबसे अद्भुद घाटों में से एक है।

समय: 24 घंटे खुला
प्रवेश शुल्क: कोई शुल्क नहीं

मिर्ज़ापुर घूमने का सबसे अच्छा समय

उत्तर प्रदेश में घूमने की इस जगह की यात्रा करने का यह सबसे अच्छा समय ठण्ड का है, इस समय के दौरान तापमान दिन में 20 डिग्री सेल्सियस से लेकर रात में 12 डिग्री सेल्सियस तक होता है, जो पर्यटन के लिए उपयुक्त है। साल के इस समय के दौरान बहुत सारे पर्यटक यहाँ आते हैं।

मिर्ज़ापुर में घूमने की जगह और जाने का सही समय

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to top